Breaking News
Home / जौनपुर / माशुका को किया गर्भवती तो डाक्टर ने करवाई शादी

माशुका को किया गर्भवती तो डाक्टर ने करवाई शादी

जौनपुर। नगर के एक चिकित्सक की दरियादिली ने एक लड़की की पहले जान बचाई उसके बाद युवती की जिन्दगी बरबाद होने से भी बचा लिया डाक्टर की इस मानवीय संवेदना को सभी सलाम कर रहे है। इस रोचक स्टोरी के पीछे भी एक ऐसी लव स्टोरी छिपी है जिसे जानकर आप सभी हैरान रह जायेगें।  नगर के वाजिदपुर तिराहे के पास स्थित न्यू हेरिटेज नर्सिगं होम में एक दूसरे को वर माला डाल रहे ये दुल्हा-दुल्हन बदलापुर थाना क्षेत्र के भटरनी गांव के पुरूषोत्तम गौतम का पुत्र संदीप कुमार है। दुल्हन खुटहन थाना क्षेत्र के सुतौली गांव के रामदास की पुत्री सुमन है। ये लोग आपस में एक दूसरे के करीबी रिश्तेदार भी है। संदीप और सुमन की लव स्टोरी एक वर्ष पूर्व शुरू हुई थी। ये दोनो आपस में बेइंतहां प्यार करते थे। दोनो में शारीरिक सम्बध भी हो गया। इसी बीच सुमन गर्भवती हो गयी। लोकलाज से बचने के लिए सुमन  इस राज को अपने कोख मे ही छिपाये रखी। इधर संदीप लापता हो गया। कुंवारी बेटी के पेट में बच्चा होने की खबर मिलते ही मां-बाप के पैरो तले से जमीन खिसक गयी। बच्चा आठ माह का हो चुका था। परिवार वाले समाज से बचने के लिए गर्भपात कराने की दवा खिला दिया। जिसके कारण बच्चा पेट मे ही मर गया। बच्चा मरते ही लड़की की हालत बिगड़ गयी। परिवार वाले उसे लेकर जौनपुर के चार नामी डाक्टरो के पास गये सभी ने हालत नाजुक देखते हुए हाथ तक नही लगाया। अंत मे सुमन के परिवार वाले उसे लेकर नगर के प्रख्यात चिकित्सक डा0 लालबहादुर सिध्दार्थ के पास ले गये। डा0 सिध्दार्थ ने भी उसकी हालत नाजुक देखते हुए इलाज करने से मना कर दिया। लेकिन परिवार वालो द्वारा काफी मिन्नत करने के बाद सुमन का आपरेशन कर दिया गया। करीब एक माह तक चले इलाज के बाद सुमन पूरी तरह से स्वस्थ हो गयीं। इलाज में करीब सवा लाख रूपये का खर्च आया। सुमन का परिवार अत्यंत गरीब होने के कारण पैसा अदा नही कर सका। डाक्टर सिध्दार्थ ने लड़की के पिता से पूरी कहानी सुनने के बाद उन्होने लड़के और उसके परिवार वालो को अपने पास बुलकार कहा कि लड़की की जिन्दगी तुमने खराब कर दिया है। अब उससे शादी कौन करेगा।या तो तुम इलाज का पूरा खर्च दो यदि नही दे सकते तो तुम लड़की से शादी करो तो मै एक भी पैसा नही लूंगा। लड़का पक्ष भी काफी गरीब होने के कारण शादी के लिए राजी हो गया। डा0 सिध्दार्थ ने दोनो के माता पिता और करीबी रिश्तेदार की मौजूदगी में अस्पताल में ही शादी करा दिया। बेटी के गले में जयमाला पड़ते ही पिता की आंखे नम हो गयी।  उधर इस अनोखी शादी को देखने के लिए अस्पताल में भारी संख्या मे लोग ,मरीज और उनके परिजन उमड़ पड़े।

About admin

Check Also

योगविज्ञान की राजधानी बनेंगा गोरखपुर- मुख्यमंत्री

लखनऊ/गोरखपुर! गोरखनाथ मंदिर के दिग्विजय स्मृति सभागार में आज बाबा गंभीरनाथ शताब्दी पुण्यतिथि का समापन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *