Home / न्यूज़ प्लस / क्रांति के जनक थें शहीद मंगल पांडेय

क्रांति के जनक थें शहीद मंगल पांडेय

बलिया/दुबहर। कभी ना अस्त होने वाले अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ किसी में बगावत करने की हिम्मत नहीं होती थी। दिन प्रतिदिन अंग्रेजों के अत्याचार बढ़ते जा रहे थे बेवजह भारतीय सताए जाने लगे चारों ओर हाहाकार मचा था। उस समय 1857 में बलिया जनपद के गंगा के किनारे बसे नगवा गांव के निवासी मंगल पांडे ने ईस्ट इंडिया कंपनी के सिपाही होते हुए भी अंग्रेजों के जुल्म और अत्याचार के खिलाफ बगावत कर हाथ में हथियार उठा लिया और कई अंग्रेज अफसरों को मौत के घाट उतार कर सोए भारत के स्वाभिमान को जगा दिया मंगल पांडे की बगावत ने पूरे भारत में अंग्रेजों के जुल्म के खिलाफ आवाज बुलंद करने की ताकत दी जो देखते ही देखते एक बड़ी क्रांति का रुप ले लिया जिसके परिणाम स्वरुप सन 1947 में अंग्रेजों को हमेशा हमेशा के लिए भारत छोड़कर जाना पड़ा। इस महान महापुरुष का जन्म उत्तर प्रदेश के तत्कालीन जनपद गाजीपुर के बलिया तहसील अंतर्गत नगवा गांव में 30 जनवरी सन 1831 को हुआ था मंगल पांडे के माता का नाम जानकी देवी तथा पिता का नाम सुदिष्ट पांडे था मंगल पांडे तीन भाई थे ललित पांडे गिरवर पांडे और मंगल पांडे मंगल पांडे में बचपन से ही देशप्रेम और स्वाभिमान कूट कूट कर भरा था वे 18 वर्ष की आयु में ईस्ट इंडिया कंपनी के 34 नंबर देसी पैदल सेना के 19 वी रेजीमेंट की पांचवी कंपनी के 1446 नंबर के सिपाही के पद पर भर्ती हुए उस समय ब्रिटिश राज में बंगाल व बिहार में आकाल से लाखों लोगों की मृत्यु हो हर वर्ष हो रही थी अंग्रेजी राज में हिंदुस्तानी घुड़सवारी नहीं कर सकते थे लोगों की परंपरागत शिक्षा न्याय व सामाजिक व्यवस्था में दखल भी बढ़ना शुरू हो गया था गोरे तथा देसी सैनिकों में भेदभाव शुरू हो गया था अधिक मेहनत करने पर भी काम वेतन कम सुविधाएं तथा ऊंचे पदों से दूर रखना आदि गोरे अफसरो द्वारा नित्य अपमान जैसी बातें सैनिकों के मन में उबाल ला रही थी भारतीयों के धार्मिक भावनाएं भड़काने के लिए भी अंग्रेज सिपाहियों को गाय और सूअर की चर्बी लगी कारतूस उपयोग के लिए देने लगे इस बात की जब जानकारी मंगल पांडे को हुई तो वह क्रोध में आग बबूला हो गए और अंग्रेजों से भारतीयों के अपमान का बदला लेने के लिए बेचैन हो गए मंगल पांडे ने अंग्रेजो के खिलाफ बगावत के लिए 29 मार्च को परेड ग्राउंड का आस्थान चुना 29 मार्च को रविवार का दिन था रविवार के दिन अंग्रेज अफसर थोड़ा आराम फरमाते थे मंगल पांडे ने परेड ग्राउंड में ही अपने साथियों को बगावत के लिए विद्रोह करने के लिए ललकारा मंगल पांडे परेड मैदान में एक खूंखार शेर की तरह इधर उधर घूम रहे थे तभी वहां अंग्रेज सार्जेंट मेजर ह्यूसन आया और मंगल पांडे को गिरफ्तार करने का आदेश दिया लेकिन मंगल पांडे को गिरफ्तार करने के लिए एक भी सिपाही आगे नहीं बढ़े मंगल पांडे ने अपनी बंदूक निकाल कर सार्जेंट मेजर को तुरंत मौत के घाट उतार दिया इसके बाद मौके पर लेफ्टिनेंट बाब घोड़े पर सवार होकर आया मंगल पांडे की बंदूक दर्जी और वह वही लुढ़क गया इसके बाद मंगल पांडे बंदूक में गोली भरने लगे इसका लाभ उठाते हुए एक अंग्रेज अफसर ने मंगल पांडे पर पिस्तौल से फायर किया लेकिन उसका निशाना चूक गया है मंगल पांडे ने तलवार निकालकर उसका भी काम तमाम कर दिया इसके बाद मंगल पांडे पर हमला करने के लिए एक गोरा सैनिक आगे आया जिसे पाने हिंदुस्तानी सैनिकों ने बंदूक के कुंदे से मार कर उसका काम तमाम कर दिया यह घटना जंगल में आग की तरह फैल गई अंग्रेज अफसर सैनिकों के साथ बैरकपुर में इकट्ठा होने लगे मंगल पांडे को चारों तरफ से घेर लिया गया मंगल पांडे ने अपनी बंदूक अपनी छाती पर सटाकर गोली दाग ली घायलावस्था में मंगल पांडे को अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां कुछ दिनों बाद वह पूरी तरह स्वस्थ हो गए मंगल पांडे पर मुकदमा चला मंगल पांडे ने अपनी सफाई में कहा कि मैंने जो कुछ किया अपने देश की रक्षा के लिए किया है फौजी अदालत ने मंगल पांडे को विद्रोही और खूनी होने का दोनों अभियोग साबित किया और 8 अप्रैल को 5:30 बजे परेड मैदान में फांसी देने की हुकमत सुनाई मंगल पांडे को फांसी देने के लिए बैरकपुर परेड मैदान के ठीक बीचोबीच मंच बनाया गया जहां भारी सुरक्षा के बीच 8 अप्रैल को प्रातः काल 5:30 बजे फांसी पर झूला दिया गया मंगल पांडे की इस कुर्बानी ने भारतीयों को झकझोर कर रख दिया मंगल पांडे के रेजीमेंट के सिपाही बगावत के लिए तैयार हो चुके थे मजबूरन अंग्रेज अफसरों को उस रेजिमेंट को भंग करना पड़ा लेकिन यह आवाज कहां दबने वाली थी जगह-जगह अंग्रेजों के जुल्म के खिलाफ आवाज उठने लगे और स्वतंत्रता संग्राम शुरू हुआ जिसका परिणाम रहा कि देश 15 अगस्त 1947 को हमेशा के लिए अंग्रेजों से आजाद हो गया।

About admin

Check Also

ट्रेन से कटकर एक युवक की मौत

मिर्जापुर। जिले के अदलहाट थाना क्षेत्र के नरायनपुर चौकी के दर्रा गांव के सामने ट्रेन …