Breaking News
Home / ग़ाज़ीपुर / जांच टीम के औचक छापेमारी से दवा विक्रेताओं में हड़कंप

जांच टीम के औचक छापेमारी से दवा विक्रेताओं में हड़कंप

बाराचंवर।  जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री के निर्देश पर शुक्रवार को बाराचंवर चट्टी पर चल रहे अवैध अल्ट्रासाउंड केंद्रों, मेडिकल स्टोर्स तथा नर्सिंग होम पर तहसीलदार मुहम्मदाबाद मोहन लाल गुप्ता तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डा. साही के संयुक्‍त नेतृत्व में छापेमारी की। शिवम नर्सिंग होम तथा संजना हड्डी अस्पताल पर डॉ उदयभान चौहान के यंहा छापे मारी किया तो वहा पर मरीज राधिका देवी पत्नी खेदू राजभर अपने बाये हाथ का प्लास्टर कराकर चैम्बर में बैठी रहीं लेकिन डॉ उदयभान चौहान फरार हो गए। डॉ साही ने राधिका देवी से पूछा कि आपके हाथ का प्लास्टर किसने किया है तो उन्‍होने बताया कि डॉ साहब कहले हउअन कि तू कुर्सी पर बइठा हम अबे आवत बानी लेकिन आधा घंटा हो गयल बा लेकिन अबले ना अइलन। इसके बाद शिवम नर्सिंग होम की भी जाँच हुई लेकिन वंहा भी कोई कागजात नहीं मिला। फिर टीम जगरनाथ डाइग्नोस्टिक सेंटर एवं गंगोत्री फर्म पर टीम पहुंची तो डाइग्नोस्टिक सेंटर पर ताला बंद था। गंगोत्री फर्म खुला था तो उसके प्रोपराइटर शिवशंकर कमलापुरी से  डॉ साही ने पूछा आपका अल्ट्रासाउंड क्यों बंद है तो उन्होंने बताया कि डॉ आरएन सिंह बलिया से आकर यहीं बैठते हैं। अल्ट्रासाउंड की चाभी उन्ही के पास है, जब आते हैं तो खुलता है। इस पर तुरन्त डॉ आरएन सिंह के नंबर पर डॉ साही ने फ़ोन किया तो डॉ आरएन सिंह स्वीकार किये कि हम वहा बैठते हैं। टीम गंगोत्री फर्म का कागजात चेक किया और उसका फोटो कॉपी लेकर चली गई। टीम ख़ुशी अल्ट्रासाउंड पर टीम पंहुंची तो वहा भी कुछ कागजात नहीं मिला तो ख़ुशी अल्ट्रासाउंड के प्रोपराइटर राजू सिंह ने कोई कागजात दिखाया। टीम न्यू सिंह अल्ट्रासाउंड व शेरू मेडिकल स्टोर पर टीम पहुंची तो उसके प्रोपराइटर जन्नत हुसैन उर्फ़ शेरू मौजूद मिले तो टीम उनसे अल्ट्रासाउंड व मेडिकल स्टोर का कागजात मांगा। देरी होने पर तहसीलदार मोहन लाल गुप्ता ने सभी कागजात की फोटो कॉपी अपने कब्जे में ले लिये। टीम भारत डाइग्नोस्टिक सेंटर एवं प्रिंस मेडिकल फार्म पर पहुंची और उनके भी कागजात का फोटो कॉपी लेकर चली गयी। मुहम्मदाबाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉ साही ने बताया कि सभी अल्ट्रासाउंड केद्रों व मेडिकल स्टोर्स के प्रोप्राइटरों से उनके कागजात ले लिये गये हैं। इसका वेरिफिकेशन किया जायेगा। अगर कोई भी दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराकर जेल भेजा जायेगा। इस कार्रवाई से मेडिकल स्टोर्स एवं अल्ट्रासाउंड केद्रों के संचालकों में हड़कम्प मच गया है।

About admin

Check Also

मंत्री उपेन्द्र तिवारी बोले… भ्रष्टाचार को समूल नष्ट करना प्राथमिकता

बलिया। पं. दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी वर्ष पर टाउन हाल में अन्त्योदय मेला व प्रदर्शनी …