Home / बनारस / तालाक पीडि़त महिलाओं के लिए अनाज बैंक

तालाक पीडि़त महिलाओं के लिए अनाज बैंक

वाराणसी। तलाक पीडि़त महिलाओं के समक्ष भूखा रहने की नौबत न आए इसके लिए अनाज बैंक ने अन्नदान की पहल की है। हुकुलगंज स्थित अनाज बैंक में ऐसी महिलाओं की मदद के लिए गुरुवार को अलग तरह का पासबुक जारी करने साथ अलग काउंटर खोला गया। शब-ए-बारात पर अनाज बैंक से अन्न महावितरण के मुख्य अतिथि सामाजिक कार्यकर्ता मोहम्मद अजहरुद्दीन ने 300 हिंदू-मुस्लिम महिलाओं में अनाज वितरित किया।इस दौरान विशाल भारत संस्थान में जुटी हिंदू महिलाओं ने तीन तलाक से मुक्ति के लिए अल्लाह से दुआ मांगी। तीन तलाक के चलते नरक भोग रहीं तलाकशुदा महिलाओं और उनके बच्चों को भूख से निजात दिलाने के लिए अनाज बैंक ने विशेष अभियान शुरू किया है। कोई भी तलाकशुदा महिला अनाज बैंक में अपना खाता खोल सकती है। महिलाओं को हर सप्ताह अनाज दिया जाएगा। साथ ही आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में भी प्रयास किया जाएगा। अनाज बैंक की प्रबंध निदेशक अर्चना भारतवंशी ने कहाकि यह बैंक तलाकशुदा महिलाओं के लिए रहमत बनकर आया है। संस्था की ओर से करीब 50 तलाकशुदा महिलाओं की मदद की जा रही है। अनाज बैंक के चेयरमैन डा.राजीव श्रीवास्तव ने कहा कि तलाक व हलाला पीडि़त महिलाओं के लिए दो जून रोटी की व्यवस्था करने कोई आगे नहीं आ रहा। इसे देखते हुए अनाज बैंक तलाकशुदा महिलाओं के लिए 24 घंटे खुला है। उनके बच्चों के पौष्टिक आहार का इंतजाम करने के साथ संस्था हर स्तर पर इनकी मदद करेगी। मुस्लिम महिला फाउंडेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी ने कहा कि वे लोग तीन तलाक के खिलाफ कयामत तक कानूनी लड़ाई लड़ेंगी। मर्दों व मुल्लाओं की गुलाम नहीं हैं महिलाएं, जिसे जैसा चाहें इस्तेमाल करें। उन्होंने मुस्लिम महिलाओं से निकाह को कोर्ट में पंजीकृत कराने की अपील भी की।

About admin

Check Also

चार दिन पूर्व बैगन की खेत में मिला था शव, आशनाई में गई युवक की जान

मिर्जापुर। अहरौरा थाना क्षेत्र के मानिकपुर गांव के बैगन की खेत में मिले मृत युवक …