Home / ब्रेकिंग न्यूज़ / दोनों सदनों में उठा आईएएस अधिकारी की मौत का मामला

दोनों सदनों में उठा आईएएस अधिकारी की मौत का मामला

लखनऊ। आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी की मौत को हत्या बताते हुये गुरुवार को विधानसभा में विपक्ष ने हंगाम किया। इस हत्या की सीबीआई जांच की मांग और प्रदेश की खराब कानून व्यवस्था का हवाला देते हुये सपा और कांग्रेस ने कार्य स्थगन प्रस्ताव लाकर चर्चा की मांग की। सपा ने कहा कि सरकार आईएएस की हत्या की जांच को दूसरी दिशा में मोड़ रही है। सपा के सदस्य सदन के बीचो बीच वेल में आ गये, बाद में विधानसभा अध्यक्ष के समझााने पर वह अपनी सीट पर गये। इस पर अध्यक्ष विधानसभा हृदय नरायण दीक्षित ने कहा कि प्रश्न काल चलने दे, कानून व्यवस्था के मुद्दे पर काफी बहस हो चुकी है। लेकिन विपक्ष नहीं माना और बारी बारी से सपा और कांग्रेस के सदस्य सदन से वाकआउट कर गये। नेता विपक्ष राम गोविन्द चौधरी ने कहा कि शहर की सबसे अीआईपी इलाके में आईएएस अधिकारी की लाश मिलती है, लेकिन सरकार गंभीर नहीं है। विपक्ष का जवाब देते हुये संसदी कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने कहा कि दिवंगत आईएएस अधिकारी कर्नाटक में कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार के करोड़ों रूपए के घोटाले का पर्दाफाश करने वाले थे। यह बात सही है कि अधिकारी का शव बुधवार को मिला था। चार डाक्टरों की टीम ने पोस्टमार्टम किया। मौत की असल वजह का पता नहीं लगने पर उनका विसरा सुरक्षित रख लिया गया। उन्होंने कहा कि अधिकारी की मौत को लेकर सरकार गंभीर है। सरकार इस मौत की हकीकत को सामने लायेगी। उन्होंने सदन को आश्वस्त किसा कि अगर हत्या हुई होगी तो सरकार दोषियों के खिलाफ स त कार्रवाई करेगी। सदन की बैठक शुरू होते ही विपक्षी सदस्यों ने कानून व्यवस्था को लेकर भाजपा सरकार को घेरने का प्रयास किया। सपा के नितिन अग्रवाल ने प्रश्नकाल के दौरान यह मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि अत्यंत कड़ी सुरक्षा वाले क्षेत्र में आईएएस अधिकारी की हत्या हो गई। यह घटना कानून व्यवस्था को लेकर सरकार के लंबे चौड़े दावे की पोल खोलती है। विपक्ष के नेता राम गोविन्द चौधरी ने कहा कि वीआईपी क्षेत्र में आईएएस अधिकारी की हत्या गंभीर मामला है। कांगे्रस विधायक दल के नेता अजय प्रताप लल्लू ने भी यह मुद्दा उठाते हुए घटना की सीबीआई जांच की मांग की। अनुराग तिवारी 2007 बैच के कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी थे। वह मसूरी स्थित लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी के मिड कैरियर प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने के बाद मीराबाई मार्ग स्थित गेस्ट हाउस में अपने बैच के सहयोगी के साथ रूके हुए थे। सुबह में गेस्ट हाउस के बाहर उनका शव पड़ा मिला था। वहीं विधान परिषद में भी विपक्ष ने भी अनुराग तिवारी की मौत का मामला उठाया। सपा ने इसे हत्या बताते हुये सरकार को घेरने की कोशिश की।

About admin

Check Also

चार दिन पूर्व बैगन की खेत में मिला था शव, आशनाई में गई युवक की जान

मिर्जापुर। अहरौरा थाना क्षेत्र के मानिकपुर गांव के बैगन की खेत में मिले मृत युवक …