Breaking News
Home / बनारस / दागी एआरटीओं आरएस यादव के राजदार हैं कई रसूखदार

दागी एआरटीओं आरएस यादव के राजदार हैं कई रसूखदार

वाराणसी। पिछले डेढ़ दशक के दौरान सूबे में सरकार किसी की रही हो लेकिन सिक्का चंदौली के निलंबित एआरटीओ आरएस यादव का चलने के पीछे कई वजह थी। सूत्रों के मुताबिक सत्ता की शीर्ष पर मौजूद राजनेता से लेकर आला अफसर चंदौली के यादव सिंह कहे जाने वाले एआरटीओ के काले धंधे में हिस्सेदार थे। सत्ता में पकड़ और हनक का आलम यह था कि डेढ़ साल पहले भ्रष्टाचार की शिकायत मिलने पर एक डीएम ने परिवहन कार्यालय में छापेमारी का हौसला जुटाया। वहां से डेढ़ लाख से अधिक नकदी बरामद होने पर मुकदमा कायम कराया गया। इसके तीन घंटे के भीतर डीएम के तबादले का आदेश आ गया। कप्तान ने किसी तरह ठीकरा डीएम के उपर फोड़कर अपनी जान छुड़ायी। इसके बाद से तो जिले में कलेक्टर-कप्तान कोई भी हो लेकिन चलती सिर्फ आरएस यादव की थी। अरबों की सम्पति के मालिक बन चुके आरएस यादव ने पिछले साल अपनी बेटी का विवाह किया था। इसमें उनका जलवा देखने को मिला था। दशा यह थी कि पंचतारा होटल की पार्किंग में वाहन खड़े करनी की जगह नहीं थी और दर्जनों लाल-नीली बत्ती लगे वाहनों को बाहर सड़क पर खड़ा करना पड़ा था। विवाह भी आईएएस स्तर के अधिकारी से किया था लेकिन लखनऊ से लेकर दिल्ली तक के अधिकारी एआरटीओ के मेहमान थे। काफी समय के बाद बनारस में ऐसी शादी शादी हुई थी जिसकी चर्चा कई दिनों तक चली थी। पुलिस की जांच बढ़ने के साथ चौंकाने वाली जानकारियां सामने आ रही है। हलांकि मामला हाईप्रोफाइल होने के नाते कोई खुल कर कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं है लेकिन अरबों की सम्पति का पता चल चुका है। खबरों के मुताबिक आलीशान होटल, शॉपिंग मॉल के अलावा कई शहरों में उसने जमीनें खरीदी थी। यही नहीं आरएस यादव 50 वोल्वो बसों का मालिक भी था। ये बसें देश के अलग-अलग हिस्सों में चलती थी। अपनी बेनामी संपत्ति का हिसाब रखने के लिए उसने कई कर्मचारियों को लगा रखा था। इसमें कई प्रोफेशनल्स भी थे।

 

About admin

Check Also

केन्द्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया ने जनचौपाल लगाकर सुनी समस्या

मिर्जापुर। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल ने ग्राम नकहरा के एसबी पब्लिक …