Home / चंदौली / …चार वर्षीय महबिश रहमान ने भी रखा रोजा

…चार वर्षीय महबिश रहमान ने भी रखा रोजा

चंदौली। भीषम गर्मी व तेज तपन में जहां प्यास से बड़े-बुजुर्गों के कंठ सूख जा रहे हैं। गर्मी व तपन को देखकर लोग रोजा रखने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर ऐसी विषम परिस्थिति में माह-ए-रमजान के दौरान  नन्हें रोजेदारों के रोजा रखा। नन्हें रोजेदार पूरे दिन भूखा-प्यासा रहकर यह संदेश दे रहे हैं कि यदि सच्चे मन से इबादत की जाए तो कोई भी काम नामुमकिन नहीं होता है। कुछ ऐसी ही नजीर पेश कर रही हैं वार्ड नंबर 15 निवासी चार वर्षीय महबिश रहमान। नगर निवासी व्यापारी रियाज अहमद की पुत्री महबिश रहमान माह-ए-रजमान में पहली बार रोजा रखना शुरू किया है। महबिश ने जब रोजा रखने की बात कही तो परिवार के लोग तेज गर्मी को देकर एक बार चिंतित हुए, लेकिन महबिश ने बार-बार कहने पर उन्होंने उसे रोका नहीं। पिता रियाज कहते हैं कि महबिश न केवल रोजा रखती है, बल्कि दीन-इस्लाम से भी उसका खासा जुड़ाव है। वह इस महीने में अरबी व उर्दू किताबों का अध्ययन भी करती है। कहा कि जिस तरह से गर्मी पड़ रही है परिवार के छोटे बच्चों के लेकर छोड़ी चिंता जरूर थी, लेकिन रोजे को लेकर बच्चों का इमान इतना मजबूत है कि उन्हें अब तक किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हुई। बताया कि जब शाम के वक्त पूरा परिवार दस्तरखान पर बैठकर इफ्तार करने का पल अपने आप में अद्भुत होता है।

 

 

About admin

Check Also

राजनैतिक प्रपंच बनकर रह गयी है मां गंगा, बोले रमाशंकर तिवारी

बलिया। महावीर घाट स्थित हनुमान मंदिर पर गंगा मुक्ति अभियान की समीक्षा बैठक रविवार को …