Breaking News
Home / न्यूज़ प्लस / मंत्री उपेन्द्र तिवारी बोले… व्यक्ति नहीं, विचार थे चंद्रशेखर

मंत्री उपेन्द्र तिवारी बोले… व्यक्ति नहीं, विचार थे चंद्रशेखर

बलिया। राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि चंद्रशेखर के विचारों को याद रखना व उसे जन-जन तक पहुंचाना ही उनके प्रति सच्ची श्रद्घान्जलि होगी। चंद्रशेखर व्यक्ति नहीं, विचार थे और विचार हमेशा जिंदा रहते हैं। वे राजनीति में बेबाक टिप्पणी के लिए जाने जाते थे। चंद्रशेखर का पूरे विश्व ने लोहा माना। पद के लिए कभी समझौता नहीं किया। प्रधानमंत्री की कुर्सी को भी लात मारने में देर नहीं की।प्रखर समाजवादी, युवा तुर्क पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की 10वीं पुण्यतिथि पर शनिवार को जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय में आयोजित कार्यक्रम को बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित करते हुए मंत्री उपेन्द्र तिवारी ने इस यूनिवर्सिटी को स्थापित करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को धन्यवाद दिया। कहा कि इसमें काफी कुछ कमियां छोड़ दी गयी थी, जिसे दूर कर पूर्वांचल में सबसे बड़ा विश्वविद्यालय बनाने का प्रयास होगा। प्रदेश सरकार द्वारा विवि के लिए जमीन का मामला सुलझा लिया गया है।विशिष्ट अतिथि जयप्रकाश विवि छपरा के कुलपति प्रो. हरिकेश सिंह ने कहा कि चंद्रशेखर कर्मयोगी थे। चन्द्रशेखर ने कभी छोड़ना नहीं, जोड़ना सीखा। बीएचयू के प्रो़ विनय सिंह ने कहा कि हमें चंद्रशेखर के विचारों को आत्मसात करना चाहिए। पूर्व मंत्री राजधारी सिंह ने कहा कि चंद्रशेखर स्वतंत्र अभिव्यक्ति के प्रतीक थे। पूर्व विधायक रामइकबाल सिंह ने चन्द्रशेखर के पुराने दिनों की बातों को बताकर उनकी याद ताजा की। स्वागत भाषण डॉ. गणेश कुमार पाठक ने किया। इससे पहले जननायक चंद्रशेखर विवि के कुलपति प्रो. योगेन्द्र सिंह ने स्मृति चिन्ह व अंगवस्त्रम से मंत्री उपेन्द्र तिवारी को सम्मानित किया। वाणी वन्दना गुलाब देवी महिला महाविद्यालय की प्राचार्य डा़ विभा चतुर्वेदी के निर्देशन में छात्राओं ने प्रस्तुत किया। टीडी कालेज के अरविंद उपाध्याय ने विश्वविद्यालय का कुल गीत प्रस्तुत किया। भाजपा जिलाध्यक्ष विनोद शंकर दूबे, सपा जिलाध्यक्ष यशपाल सिंह, कांग्रेस जिलाध्यक्ष सच्चितानंद तिवारी, कमलेश सिंह, जिला कोषाधिकारी प्रकाश सिंह, प्राचार्य डॉ. केके मिश्र, अशोक श्रीवास्तव, सूर्यबली सिंह, रामअवध पाण्डेय, गजेंद्रपाल सिंह, वीरेंद्र राय, रवि राय, अमित यादव, डा़ धर्मात्मानंद, राणाप्रताप सिंह, ओंकार सिंह, शैलेन्द्र सिंह पप्पू इत्यादि मौजूद रहे।

About admin

Check Also

तिरंगे में लिपटे शहीद पिता के शव को मासूम ने दी मुखाग्नि… सिसकने लगी ‘धरा’ व ‘घाघरा’

बिल्थरारोड, बलिया। पाकिस्तान-मुर्दाबाद, हिन्दुस्तान-जिन्दावाद, शेरे बलिया जिन्दाबाद, जब तक सूरज चांद रहेगा-आरपी यादव तेरा नाम …