Home / बलिया / रागिनी हत्याकांड की उपेक्षा कर रही योगी सरकार

रागिनी हत्याकांड की उपेक्षा कर रही योगी सरकार

बलिया। बसपा का प्रतिनिधि मंडल पूर्व मंत्री नारद राय के नेतृत्व में बजहां गांव जाकर रागिनी के परिजनों से मिलकर हर संभव मदद का आश्वासन दिया। पूर्व मंत्री को मृतका के पिता जितेन्द्र दूबे ने विस्तार से घटना की जानकारी दी। पीड़ित परिवार को ढ़ांढ़स बंधाते हुए पूर्व मंत्री नारद राय ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार में कानून व्यवस्था में पूरी तरह से फेल है। अपराधियों के हौसले बुलंद है।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर आये जिले के प्रभारी मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पीड़ित परिवार को कोई मदद मुहैया नहीं कराया, जो सरकार के संवेदनहीनता का परिचायक है। उन्होंने याद दिलाते हुए कहा कि नरही में जब विनोद हत्याकांड में परिजनों से मिलने सरकार के प्रतिनिधि के रूप में गया था तो पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपया और उनकी पत्नी को सरकारी नौकरी दिया था। श्री राय ने योगी सरकार पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए दिल्ली के निर्भया कांड की याद दिलाया। कहा कि उस समय प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव न सिर्फ निर्भया के गांव पहुंचे, बल्कि पीड़ित परिवार के इच्छा अनुरूप विकास कार्य के साथ ही सहायता राशि भी उपलब्ध कराया था। लेकिन योगी सरकार रागिनी हत्याकांड को हल्का में ले रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग किया कि वे रागिनी के घर आये और पीड़ित परिवार को मुआवजा के साथ ही उसके एक बेटी को सरकारी नौकरी दें। प्रतिनिधि मंडल में डॉ. मदन राम, डा. इंदल राम, रणजीत भारती, राजकुमार पाण्डेय, ब्लाक प्रमुख गुड्डू राय, सतीश चौधरी नागा, जमाल आलम, श्रीकांत उपाध्याय, शिवानंद ओझा, नरेन्द्र पाण्डेय, फैयाज अहमद, महफूज आलम, सुरेन्द्र निषाद, भीम चौधरी, श्याम बिहारी पाण्डेय आदि शामिल रहे।

About admin

Check Also

आजमगढ़: पिकप ने मारी टक्कर, दो युवकों की मौत

आजमगढ़। जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के लढि़या जमीन हरखोरी गांव में शनिवार की देर रात शौच …