Home / अपराध / अंधविश्वास या कुछ और? बलिया में फिर कटी चार महिलाओं की चोटी

अंधविश्वास या कुछ और? बलिया में फिर कटी चार महिलाओं की चोटी

रेवती, बलिया। क्षेत्र में महिलाओं की चोटी कटने की घटनाएं धीरे-धीरे पांव पसारने लगी है। घटनाओं की कहानी सुनने के बाद तो विश्वास ही नहीं हो पाता, किन्तु महिलाओं के कटे बाल और प्रतिक्रिया स्वरूप उनमें पैदा रोगों को देख कर अनायास विश्वास करना पड़ता है। शनिवार की रात में नगर सहित तीन गांवों में चार महिलाओं की चोटी कटने की घटना प्रकाश में आयी है।

नवका गांव निवासी नगर के वार्ड नं. छह में मठिया, बाजार के पास स्थित भाड़े के मकान में रह रहे राजन ठाकुर की 11 वर्षीय पुत्री शशि घर के अन्य सदस्यों के बीच बैठी रोटी पका रही थी कि अचानक उसकी चोटी कटकर गिर गयी। प्रत्यक्ष दर्शियों के मुताबिक घबराई शशि चिल्लाते हुए घर में भाग खड़ी हुई। इसके बाद उसके सिर में दर्द शुरू हो गया। दूसरी घटना इसी वार्ड के दुर्गा मंदिर मार्ग पर रमेश गोंड़ की 32 वर्षीय पत्नी कुसुम के साथ हुई। पति-पत्नी घर में सोये हुए थे। घर की औरतों के मुताबिक रात डेढ़ बजे घर के रोशन दान पर रंगीन रोशनी दिखी। फिर कुसुम के बाल कट गए। तबसे वह बेहोश रही। रविवार की सुबह उसका सीएचसी पर इलाज कराया गया। उधर, रखहां, नई बस्ती हलखोरवा चक में अशोक यादव की पत्नी प्रमिला देवी घर में दो बच्चों के साथ सोई थी। रात दो बजे उसकी चोटी कट गई। बताया गया कि तबसे वह बेहोश रही। जब उसकी सास बच्चों के चिल्लाहट को सुनकर पास पहुंची तो कटे हुए बाल देखकर चिल्लाने लगी। शोर सुनकर आस-पास के लोग जुट गए और महिला को गंगा स्रान पचरूखिया में कराने के बाद सदर अस्पताल में भर्ती कराया। चौथी घटना में छतीसा नवका टोला निवासी हीरा विंद की पत्नी शान्ति (30) को रात दो बजे चांदी जैसी चमक लिए केची दिखाई पड़ी। तभी सिर के बाल कट गये। महिला के चिल्लाने के बाद लोग जुट गये। उधर, उभांव थाना क्षेत्र के शाहपुर अफगा में सुनिता (28) पत्नी बृजेश विन्द के बाल कटकर नीचे गिर गये और वह अचेत हो गयी। उसे सीएचसी सीयर पर उपचारार्थ दाखिल कराया गया, लेकिन बार-बार अचेत होने से चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद उसे सदर अस्पताल रेफर कर दिया।

About admin

Check Also

आजमगढ़: पिकप ने मारी टक्कर, दो युवकों की मौत

आजमगढ़। जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के लढि़या जमीन हरखोरी गांव में शनिवार की देर रात शौच …