Home / ब्रेकिंग न्यूज़ / Delhi में शिक्षामित्र बोले ‘हक’ लेकर ही लौटेंगे… भीड़ से बढ़ी प्रशासन की चिंता

Delhi में शिक्षामित्र बोले ‘हक’ लेकर ही लौटेंगे… भीड़ से बढ़ी प्रशासन की चिंता

लखनऊ/दिल्ली। यूपी कैबिनेट द्वारा 10 हजार रुपये मानदेय के फैसले से असंतुष्‍ट शिक्षामित्रों ने जंतर मंतर पर सोमवार को विशाल प्रदर्शन शुरू किया। एक लाख से अधिक शिक्षामित्रों के राजधानी में पहुंचने से जाम की स्थिति बन गई है। लगातार शिक्षामित्रों के पहुंचने से पुलिस प्रशासन की चिंता बढ़ गयी है। शिक्षामित्रों ने ऐलान किया है कि उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो वे आंदोलन को तेज करेंगे। कहा कि हम हक मांगने दिल्ली आये है और लेकर ही लौटेंगे। शिक्षा मित्रों में उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ आक्रोश जबरदस्त आक्रोश दिख रहा है। यूपी से शिक्षा मित्र बसों, ट्रेनों और अन्य वाहनों से भरकर जंतर मंतर पर जुटे हैं। जंतर मंतर की सड़क पूरी भर जाने के बाद आसपास के फुटपाथ पर भी प्रदर्शन के लिए बैठ गए। 25 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के 1.36 लाख शिक्षामित्रों की सहायक अध्यापक के रूप में नियमितीकरण को गैरकानूनी ठहरा दिया था। इसके बाद इन्हें योगी सरकार से अच्‍छे वेतन पर शिक्षामित्र के रूप में बहाल रखने की उम्‍मीद थी। प्रदेश सरकार की तरफ से आश्वासन के बावजूद कोई कार्यवाही न होने से शिक्षामित्रों में आक्रोश व्याप्त है। आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र शाही ने कहा कि तकरीबन एक लाख शिक्षामित्र दिल्ली इकट्ठा हुए हैं। हम चार दिनों तक यहीं प्रदर्शन करेंगे। यदि हमारी मांग नहीं मानी गई तो प्रदर्शन को और तेज करेंगे। उत्‍तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के अध्‍यक्ष गाजी इमाम आला ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने बनारस में एक रैली में कहा था कि शिक्षामित्र आत्‍महत्‍या न करें। प्रदेश के शिक्षामित्रों की समस्‍या उनकी अपनी समस्‍या है, जिसका समाधान किया जाएगा। लेकिन यूपी की सत्ता में आने के बाद बीजेपी शिक्षामित्रों को पूछ भी नहीं रही। प्रदेश में 50 से अधिक शिक्षामित्र आत्‍महत्‍या कर चुके है।

 

About admin

Check Also

बलिया में चुनावी ट्रेनिंग से गायब दो वीडीओ व 13 शिक्षक सस्पेंड

बलिया। नगरीय निकाय सामान्य निर्वाचन-2017 में लगी ड्यूटी के तहत प्रशिक्षण में अनुपस्थित 13 शिक्षकों …