Breaking News
Home / न्यूज़ प्लस / मिशन 2019: सोनिया गांधी, मुलायम सिंह सहित सात लोकसभा क्षेत्रों में भाजपा का विशेष होमवर्क शुरु

मिशन 2019: सोनिया गांधी, मुलायम सिंह सहित सात लोकसभा क्षेत्रों में भाजपा का विशेष होमवर्क शुरु

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी की नजर उत्तर प्रदेश में उन सात लोकसभा सीटों पर है, जिन पर पिछली बार वह जीत नहीं दर्ज कर पाई थी। राज्य की 80 लोकसभा सीटों में से 73 पर बीजेपी और उसके सहयोगी दल ने विजय हासिल की थी। कांग्रेस के खाते में प्रदेश से सिर्फ दो सीटें गईं, वो भी उनकी परंपरागत रायबरेली और अमेठी, जहां से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जीत दर्ज की। पांच सीटों पर सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव और उनके परिवार वालों को जीत हासिल हुई। बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की 71 सीटों पर जीत हासिल की थी और उसकी वोट हिस्सेदारी 42.63 फीसदी थी. बीजेपी की सहयोगी अपना दल ने दो सीटें जीती थीं। अमेठी सीट की बात करें तो यहां राहुल ने बीजेपी प्रत्याशी और इस समय केंद्र में मंत्री स्मृति ईरानी को हराया था। स्मृति हारने के बावजूद अमेठी में लगातार सक्रिय हैं और पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा रही हैं। उन्होंने राहुल के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। पिछले लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को चार लाख आठ हजार 651 वोट मिले थे, जबकि स्मृति ईरानी को तीन लाख 748 वोट प्राप्त हुए थे। रायबरेली में सोनिया को पांच लाख 26 हजार 434 मत मिले थे, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को एक लाख 73 हजार 721 वोट हासिल हुए थे। तीन साल बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने अमेठी और रायबरेली की दस विधानसभा सीटों में से छह पर जीत दर्ज की। इनमें से चार सीटें राहुल के निर्वाचन क्षेत्र की रहीं। जबकि सपा के खाते में 2014 के लोकसभा चुनाव में आजमगढ़, कन्नौज, बदायूं, फिरोजाबाद और मैनपुरी सीटें गईं। मुलायम आजमगढ़ और मैनपुरी दोनों सीटों पर चुनाव लड़े थे और जीते भी। लेकिन आजमगढ़ सीट बरकरार रखी और मैनपुरी छोड़ दी। बाद में मैनपुरी से यादव परिवार का ही एक अन्य सदस्य उपचुनाव में जीता। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल यादव कन्नौज से सांसद हैं। बीजेपी के एक प्रवक्ता ने कहा कि जिन सात सीटों पर पिछली बार जीत नहीं मिली थी, उन्हें लेकर अलग तरह की रणनीति तैयार की जा रही है। उन्होंने कहा कि बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं के लिए कई गतिविधियों की योजना बनायी गई है। हारे हुए क्षेत्रों में प्रभारी नियुक्त करने की प्रक्रिया चल रही है। ताकि मतदाताओं और पार्टी कार्यकर्ताओं को मजबूत संदेश जाए कि बीजेपी विकास के लिए है। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी अगले लोकसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करेगी। अमेठी जिले के वरिष्ठ बीजेपी नेताओं ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के दस अक्टूबर को अमेठी आने का कार्यक्रम है। वे कई परियोजनाओं का ऐलान करेंगे। उधर राहुल भी चार से छह अक्टूबर के बीच अपने लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र अमेठी में रहे। कई सभाएं की, कार्यकर्ता सम्मेलन किये, जगह-जगह गांवों में चौपाल लगाई। राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि अमेठी के लिए जो परियोजनाएं उन्होंने शुरू कराई थीं, बीजेपी वाले उन परियोजनाओं को अपना बता रहे हैं।

About admin

Check Also

हत्या का विरोध: पत्रकारों ने निकाला मौन जुलूस, कहा जिस सरकार में पत्रकार व साहित्यकार सुरक्षित नही उसमे कानून व्यवस्था की बात करना बेकार

गाजीपुर। पत्रकार एसोसिएशन के आह्वान पर सोमवार को पत्रकार राजेश मिश्रा के हत्‍याकांड के विरोध …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *