Breaking News
Home / धर्म / भगवान राम व भरत का मिलन देख लोगो की आंखे नम

भगवान राम व भरत का मिलन देख लोगो की आंखे नम

मिर्जापुर। पुरानी दशमी रामलीला कमेटी के तत्वावधान में पंचमी का भरत मिलाप धूमधाम से निकला। जय श्री राम के उद्घोष के बीच भगवान राम एवं भरत का मिलाप देख लोगों की आँखे नम हो उठी। वनवास के बाद चारों भाई राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुधन और वीर हनुमान एक दूसरे से मिलने के लिए बेताब थे। भरत लाव लश्कर के साथ बैंड बाजा के साथ निकले और एक दूसरे को देख चारों भाई आपस में गले मिले तो राम के अनुजों ने माता सीता का आर्शीवाद लिया। इसके बाद विभिन्न झांकियों के साथ नगर में भ्रमण कर नगरवासियों को दर्शन दिया। भरत मिलाप मार्ग पर विद्युत झालरों की सजावट की गयी थी। भगवान भास्कर ने भी रामजी की निकली सवारी का दर्शन किया। पंचमी का भरत मिलाप परम्परागत तरीके से चैबे टोला से निकला। भरत मिलाप की झांकिया चैबे टोला से पैरिया टोला, तुलसी चैक, पेहटी चैराहा, चिन्हवाइनारा, तेलियागंज, टटहाई रोड, मुकेरी बाजार, लालडिग्गी, बूढ़ेनाथ, त्रिमुहानी, पसरहट्टा, बसनई बाजार, सिटी कोतवाली, घंटाघर, खजांची का चैराहा, वासलीगंज, आर्य कन्या होते हुए चैबे टोला जाकर राम दरबार की आरती के साथ सम्पन्न हुआ। मध्य रात्रि को निकले भरत मिलाप के आगे कमेटी का पताका फहरा रहा था। साथ में चल रहे बैंडबाजा की धून के साथ ही बज रहे पटाखे मन में उत्सुकता पैदा कर भरत मिलाप आने की जानकारी दे रहे थे। आकर्षक झांकियो पर विराजमान देवी देवताओं की उपस्थिति में भाइयों की मिलन से हर्षित अप्सराओं का नृत्य लोगों में विशेष आकर्षण का केंद्र बना था। भारत माता का जयकारा गूंज उठता था। विभिन्न झांकियों के बाद सबसे पीछे भगवान राम का विशाल रथ चल रहा था। जिसे भक्तगण खुद ही खींच रहे थे। चैबे टोला पहुँचने पर भक्तों ने राम दरबार का पूजन कर आरती उतारी। भगवान के मिलन के मौके पर रात भर शहर की सड़कें गुलजार रही और चाय पान की दुकानें खुली रही। रात में निकला पंचमी का भरत मिलाप को देखने के लिए सूर्यनारायण भी अपने समय पर उदित होकर देखा। झांकियों पर विराजमान देवी देवताओं को देख लगता था कि धरती पर भगवान उतर आये हैं। भक्तों की उमड़ी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए कटरा कोतवाली व शहर कोतवाली की पुलिस और पीएसी के जवान चक्रमण करते रहे। पुलिस की सक्रियता से अराजक तत्व भीड़ का हिस्सा बनने के बजाय गलियों में घुस कर गायब हो गये।

 

 

About admin

Check Also

ज्ञान कुंज एकेडमी में खुलकर हुई ‘ज्ञान’ की बात

सिकंदरपुर, बलिया। ज्ञान कुंज एकेडमी बंशी बाजार में शिक्षकों एवं कर्मचारियों पर ‘शिक्षा की आधुनिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *