Breaking News
Home / न्यूज़ बुलेटिन / जिले में पहली बार हुआ लोकगायकों का सम्मान

जिले में पहली बार हुआ लोकगायकों का सम्मान

मिर्जापुर। जिलाधिकारी बिमल कुमार मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिले के लोकगीत गायकों व गायिकाओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। जिले में पहली बार किसी जिलाधिकारी ने लोक गायकों का सम्मान किया। उनकी पीड़ा सुनकर उन्हें हर संभव प्रशासनिक मदद  दिलाने का आश्वासन दिया गया। मां विन्ध्यवासिनी देवी के धाम विन्ध्याचल में शारदीय नवरात्र मेला के दौरान जिला प्रशासन के सहयोग से सूचना विभाग द्वारा आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले सांस्कृतिक दलों व लोकगायकों को जिलाधिकारी ने प्रशस्ति पत्र व पं0 दीन दयाल उपाध्याय के जीवन पर आधारित पुस्तक भेंट कर सम्मानित किया। सम्मानित होने वाले लोकगायकों में कजली गायिका अजीता श्रीवास्तव, कजली व लोकगीत गायिका ऊषा गुप्ता, कत्थक नृत्यांगना एवं श्रीनेत्र डिग्री कालेज पड़री के प्रबन्धक की सुपुत्री कु0 हिमांशी संतोष, विद्यासागर प्रेमी, बद्री कवि, जटाशंकर, कमलेश पाल, रमापति पाल, उद्घोषक संजय श्रीवास्तव, हास्य कलाकार राम प्रसाद, बिरहा गायक हरी राम यादव, खेखा राम, अभिषेक गुप्ता, पजालू यादव, ओम प्रकाश दूबे, शिवलाल गुप्ता, राजाराम यादव, पंचम, पप्पू, प्रमिमा यादव, राम जियावन यादव, मनीष शर्मा, दयाराम यादव व बाल मुकुन्द चौबे को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में अच्छे गायक है पर उन्हें एक अच्छा मंच देने की आवश्यकता है। उन्होने अपर जिलाधिकारी से कहा कि कलाकारों के नाम विन्ध्याचल मेले के प्रान्तीयकरण बनाये जाने वाले प्रस्ताव में भेजे ताकि उनके लिये विन्ध्याचल में एक अच्छा मंच मुहैया कराया जा सके। उन्होने कहा कि प्रशासन की तरफ कलाकारों के सम्मान व उन्हें आगे बढ़ाने का हर संभव प्रयास किया जायेगा। लोक गायकों के द्वारा जिलाधिकारी बिमल कुमार दूबे व अपर जिला सूचना  अधिकारी ओम प्रकाश उपाध्याय को स्मृति चिन्ह के रूप में मां विन्ध्यवासिनी देवी का चित्र देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर लोक गायक बबलू, बनारसी, बेचन राम बिन्द के अलावा अन्य कलाकार उपस्थित रहे।

 

 

 

About admin

Check Also

कौमी एकता सप्ताह के दौरान मदरसे ने निकाला जुलूस

चकिया। कौमी एकता सप्ताह के अन्तर्गत बुधवार को पुरानी चकिया स्थित मदरसा मसदरूल ओलूम असदकिया …