Breaking News
Home / बलिया / बलिया में बोले मंत्री उपेन्द्र तिवारी, ‘रतसर हिंसा’ में बख्शे नहीं जायेंगे दोषी

बलिया में बोले मंत्री उपेन्द्र तिवारी, ‘रतसर हिंसा’ में बख्शे नहीं जायेंगे दोषी

बलिया। रतसर में 10 अक्टूबर को साईकिल-बाईक की टक्कर में घायल अरविंद राजभर को देखने राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार उपेंद्र तिवारी शुक्रवार को जिला अस्पताल पहुंचे। उन्होंने घायल का हालचाल लेने के बाद मुख्य चिकित्साधिकारी व अन्य अस्पताल स्टॉफ को निर्देश दिया कि इलाज में पूरी तत्परता बरतें। साथ ही अस्पताल की व्यवस्था को भी बेहतर बनाये रखने का निर्देश दिया।

यहां से मंत्री उपेंद्र तिवारी सीधे रतसर जाकर दोनो पक्षों के लोगों से मिले। इसके बाद आगजनी में पीड़ित मुस्लिम परिवार से भी मिले। कहा कि घटना अत्यंत ही निन्दनीय है। इसमें जो भी दोषी होंगे, बख्शे नही जाएंगे। आश्वस्त किया कि किसी निर्दोष पर कोई कार्रवाई नही होगी। किसी के साथ अन्याय नही होगा। पीड़ितों का जो नुकसान हुआ है, उनकी क्षति का आकलन करके राहत दिलाया जाएगा। कहा कि घटना की बकायदा जांच हो रही है। जांच के बाद दोषी सामने आ जाएंगे और उन पर सख्त कार्रवाई निश्चित है। राज्यमंत्री ने जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक व एसडीएम-सीओ को भी जरूरी दिशा निर्देश दिये।

 

डीएम-एसपी ने किया रतसर कस्बे का भ्रमण

बलिया। रतसर कस्बे का माहौल पूरी तरह शांत हो गया है, लेकिन एहतियात के तौर पर डीएम सुरेंद्र विक्रम व एसपी अनिल कुमार लगातार कस्बे में भ्रमण कर शांति व्यवस्था का जायजा ले रहे हैं। गुरूवार की मध्य रात्रि को भी अधिकारी द्वय ने कस्बे का भ्रमण कर जवानों की ड्यटी का निरीक्षण किया। शुक्रवार को भी डीएम-एसपी ने पूरे कस्बे का भ्रमण किया। इस दौरान कस्बे में दुकानें खुली हुई थी और लोग खरीददारी भी कर रहे थे। इधर, कुछ दुकानों के बंद होने के बाबत जानकारी ली और दुकानदारों को बुलाकर समझाया। कहा कि मन से डर निकालकर दुकान खोलें। उन्होंने एसडीएम निखिल टीकाराम फुंडे व सीओ को भी जरूरी दिशा निर्देश दिये।

 

18 तक अभिलिखित करायें बयान

बलिया। रतसड़ कस्बा में 11 अक्टूबर को दो पक्षों के बीच हुए मारपीट, संघर्ष व आगजनी के घटना की मजिस्ट्रीयल जांच उप जिला मजिस्ट्रेट निखिल चन्द्र फुंडे द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने कहा है कि इस घटना के सम्बन्ध कोई जानकारी देने हेतु इच्छुक हो अथवा अपना बयान एवं अभिलेखीय साक्ष्य, फोटोग्राफी, विडियोग्राफी आदि प्रस्तुत करना चाहते है तो वे मॉडल तहसील स्थित न्यायालय कक्ष में 18 अक्टूबर तक किसी भी कार्य दिवस में उपस्थित होकर अपना बयान/कथन अभिलिखित कर सकते है।

About admin

Check Also

हत्या का विरोध: पत्रकारों ने निकाला मौन जुलूस, कहा जिस सरकार में पत्रकार व साहित्यकार सुरक्षित नही उसमे कानून व्यवस्था की बात करना बेकार

गाजीपुर। पत्रकार एसोसिएशन के आह्वान पर सोमवार को पत्रकार राजेश मिश्रा के हत्‍याकांड के विरोध …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *