Breaking News
Home / न्यूज़ बुलेटिन / रामलीला मनोरंजन का साधन नहीं, धारणा करने की आवश्यकता

रामलीला मनोरंजन का साधन नहीं, धारणा करने की आवश्यकता

मिर्जापुर। विंध्याचल रामलीला को मनोरंजन का साधन नही बल्कि गंभीरता से जीवन मे धारण करना चाहिए। विंध्य प्राचीन रामलीला समिति के तत्वाधान में रामलीला का भव्य मंचन मोतिया झील मार्ग स्थित अमर सिंह फैन्स एसोसिएशन में किया जा रहा है।

रामलीला में सबसे अलग कार्य यह किया जा रहा है जो जनपद के रामलीला से अलग हटकर और बेहतरीन मंचन में इसकी भूमिका अहम हो गया है वह है रामलीला देखने आए बच्चो के बौद्धिक ज्ञान के लिए भगवान श्रीराम के जीवन के संदर्भ में और धार्मिक ज्ञान की वृद्धि बच्चो में बढ़ाने के लिए उनसे प्रश्न भी किया जा रहा है जैसे भगवान राम के बारे में जानकारी बच्चो में बढ़ रही है तो बच्चे भी प्रश्नों के जवाब घर पर जाकर अपने माता पिता और अपने गुरु आचार्यो से पूछ रहे है कि गुरु जी भगवान के बड़ी बहन और मौसी और अयोध्या से लंका कितनी दूरी पर है बच्चे ऐसे प्रश्नों को हल करने के लिए बड़े कौतूहल देखे जा रहे है और इन प्रकार से रामलीला का चर्चा घर घर मे हो रहा है। रामलीला में प्रश्नकर्ता व संचालन आदर्श उपाध्याय जी कर रहे है तो रामलीला के का आयोजन श्री राज गिरी उर्फ बाबा गिरी के द्वारा किया जा रहा है। वाद्ययन्त्र में डमरू एंड पार्टी तथा हारमोनियम पर व्यास जी रामलीला को लोकप्रियता दिलाने में बड़ी अहम भूमिका अदा कर रहे है। रामलीला कमेटी में अध्यक्ष प्रकाश पांडेय, महामंत्री संगम लाल त्रिपाठी, कोषाध्यक्ष प्रशांत द्विवेदी तथा रामलीला में विशेष सहयोगी श्री मनीष औदीच्य, प्रशांत द्विवेदी उर्फ गुड्डू, रामलीला मंच संचालक श्री आदर्श उपाध्यय व अमन गोस्वामी आदि लोग रामलीला में विशेष सहयोगियो में रहे।

About admin

Check Also

…जब पटरी व ठेला दुकानदारों के बीच पहुंचे संजय जायसवाल

बलिया। नगर पंचायत सिकन्दरपुर से अध्यक्ष पद के निर्दल प्रत्याशी संजय जायसवाल ने मंगलवार को …