Breaking News
Home / बनारस / अपराजिता के भगवा ओढ़ने से विधायक सुशील सिंह बैकफुट पर

अपराजिता के भगवा ओढ़ने से विधायक सुशील सिंह बैकफुट पर

वाराणसी।  जिला पंचायत अध्‍यक्ष अपराजिता सोनकर ने भाजपा की सदस्‍यता प्रदेश अध्‍यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय की अध्‍यक्षता में ग्रहण किया। अपराजिता का सेभ राजनीतिक शाट खेलने से कपसेठी हाऊस बैकफुट पर आ गया है। सूबे में सरकार किसी की रही हो लेकिन जिला पंचायत में पिछले दो दशकों से सिक्का कपसेठी हाउस का चलता रहा है। पूर्व एमएलसी उदयनाथ सिंह चुलबुल के समय से इसका सिलसिला आरम्भ हुआ और पुत्रवधू किरन सिंह से लेकर छोटे बेटे सुजीत सिंह डाक्टर अध्यक्ष की कुर्सी पर विराजमान रहे। ऐसे में सपा से शासनकाल में राजनीति में धूमकेतु की तरह आने वाली इंजीनियर अपराजिता सोनकर का चेयरमैन में विराजमान होना गले के नीचे नहीं उतरा। नतीजा, सूबे में भाजपा की सरकार बनने के बाद अपराजिता के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव ला दिया गया। सैयदराजा के विधायक सुशील सिंह और पिण्डरा के विधायक डा. अवधेश सिंह इसकी अगुवाई कर रहे थें। पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को भरोसा दिलाया गया था कि तख्ता पलट ही नहीं बल्कि ‘अपने’ प्रत्याशी को जिले के प्रथम नागरिक की कुर्सी पर बैठा कर रहेंगे। परिणाम आने के साथ पार्टी की नहीं बल्कि कपसेठी हाउस की किरकिरी हुई थी। ऐसे में अपराजिता पर तमाम आरोप लगाने वाले उन्हें किस तरह स्वीकार करेंगे?

नियमों के तहत एक बार अविश्वास प्रस्ताव आने के बाद अगले एक साल तक इसे नहीं लाया जा सकता है। इस तरह अपराजिता पहले ही सुरक्षित मोड में आ चुकी थी। अब सपा भी चाहे तो उनके खिलाफ फिलहाल समय सीमा पूरी होने तक अविश्वास प्रस्ताव नहीं ला सकती है। केन्द्र से लेकर प्रदेश तक के मूड को भांपते हुए अपराजिता ने जबरदस्त दांव चला जिससे विरोधी चारो खाने चित्त हो गये।

लोकसभा चुनाव के बाद जिले की आठो विधानसभा सीटों पर भाजपा गठबंधन की जीत हुई थी। मेयर पहले से भाजपा का था। यही एक ऐसी सीट थी जिसे वह दो बार पूरा प्रयास करने के बावजूद नहीं जीत सकी थी। अब पीएम मोदी के आगमन पर प्रोटोकाल के तहत स्वागत अपराजिता करेंगीं जैसे पहले सुजीत डाक्टर किया करते थे।

 

About admin

Check Also

मिर्जापुर: दस मृतक श्रद्धालुओं को मुख्यमंत्री राहत कोष से ढाई-ढाई लाख रूपये व घायलों को मिलेंगे 25 हजार रूपये

मडिहान ( मिर्जापुर )। जिले के मड़िहान थाना क्षेत्र में ट्रक और ट्रैक्टर की सोमवार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *