Breaking News
Home / चंदौली / इंसान को आगे बढ़ाती है आचार-विचार की समानताः जिला जज

इंसान को आगे बढ़ाती है आचार-विचार की समानताः जिला जज

चहनियां। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से शुक्रवार को सुरतापुर स्थित मां खण्डवारी विधि महाविद्यालय में सेमिनार का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जनपद न्यायाधीश ने दिलीप कुमार यादव ने सर्वप्रथम मां सरस्वती के तैल चित्र पर माल्यार्पण किया। इसके बाद छात्राओं ने सरस्वती वंदना व स्वागत गीत प्रस्तुत किया। माँ खण्डवारी शिक्षणोतर संस्थान के निदेशक आशुतोष कुमार सिंह ने मुख्य अतिथि को अंगवस्त्रम देकर सम्मानित किया ।

इस मौके पर जिला जज दिलीप कुमार यादव ने कहा कि जिला विधिक सेवा एक न्याय का माध्यम है। आचार-विचार की समानता ही इंसान को आगे बढ़ाती है। आकांक्षा सिंह के नारी सुरक्षा कानून पर उठे सवाल के जवाब में कहा कि नारी को अपना कानून दायरा नहीं भूलना चाहिए। यदि सीता लक्ष्मण रेखा नहीं लांघती तो रावण यह दुस्साहस नहीं करता। आप अपनी सुरक्षा खुद कर सकती है, बशर्ते मर्यादा में रहे। कहा कि जितनी भी दहेज हत्या होती है उसमें ज्यादातर नारी का योगदान रहता है। लालच हर किसी को खा जाता है। नारी अपने को कमजोर न समझे। हम समाज के बनाये रश्मो रिवाज के पथ पर चले। मुझे जनपद में आये दो तीन दिन हुए है। दो-तीन महीने के अंदर कानून व्यवस्था सुधरेगी। न्यायाधीश नीरज गौतम ने कहा कि 9 से 18 नवम्बर के बीच विधिक सेवा का प्रसार हुआ। इसका उद्देश्य यही है कि जिसके पास धन नहीं है वो विधिक सेवा प्राधिकरण का सहारा ले सकता है। महात्मा गांधी का सपना था कि सही व्यक्ति को न्याय मिले। इस दौरान नायब तहसीलदार अमित त्रिपाठी, एमपी सिंह, आनंद सिंह, जेपी श्रीवास्तव, शैलेन्द्र सिंह, संदीप यादव, डा. अखिलेश रॉय, शिवशंकर रॉय, अखिलेश पांडेय, संतोष सिंह, मोहन प्रजापति, संतोष कन्नौजिया आदि लोग मौजूद थे।अध्यक्षता डा. आरपी श्रीवास्तव व संचालन दरोगा सिंह ने किया।

 

 

 

 

 

About admin

Check Also

अधिवक्ता न्याय पालिका के महत्वपूर्ण अंग: जिला जज

चंदौली। डिस्ट्रिक्ट डेमोक्रेटिक बार एसोसिएशन की ओर से मंगलवार को कचहरी परिसर में शपथ-ग्रहण समारोह …