Breaking News
Home / बलिया / बोले डॉ. हरेराम, नौकरशाही का भय दूर करें जनप्रतिनिधि

बोले डॉ. हरेराम, नौकरशाही का भय दूर करें जनप्रतिनिधि

बलिया। स्वतंत्रता संग्राम के प्रथम शहीद मंगल पांडेय के पैतृक गांव नगवां में शनिवार को लोकतंत्र में जनता के हालात विषयक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें देश की लोकतांत्रिक प्रणाली और जनता के अधिकारों पर गंभीर बहस और चर्चा की गई। मंच के संरक्षक डॉ. हरेराम ने कहा कि लोकतंत्र के वर्तमान समय में जनता कहने को मालिक है।

कहा कि नौकरशाही जिस तरह जनता के ऊ पर अपना प्रभाव बनाए हुए हैं, इसको देख कर ऐसा लगता है कि नौकरशाही ही मालिक है और जनता नौकर। इस परंपरा को बदलने के लिए सरकारों को कार्य करना होगा, तभी जाकर लोकतंत्र की सच्ची परिभाषा से लोगों को अवगत कराया जा सकता है। मंच के अध्यक्ष केके पाठक ने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने वीआईपी कल्चर समाप्त कर यह संदेश देने का काम किया कि जनता में किसी प्रकार का हौवा न बनाया जाए। यह कदम स्वागत योग्य है। साथ ही उन्होंने जमीनी स्तर पर समस्या झेल रहे किसान, मजदूर, व्यापारी, कारीगर आदि की स्थिति में बदलाव करने के लिए ठोस पहल करने की मांग की। अंजनी सिंह ने कहा कि आज जिस तरीके से जनता के मन में नौकरशाही का डर पैदा हो गया है, इसे दूर करने के लिए राज्य तथा केंद्र सरकार को ही पहल करनी होगी। ध्रुप सिंह, पन्नालाल गुप्ता, अरुण कुमार, गणेश जी, अशोक मधुकर, राजू मिश्रा, अजय पान्डेय, विजय सिंह, ध्रुव सिंह उपस्थित रहे।

About admin

Check Also

चन्दौली का पिछड़ा होना अफसरों की नाकामीः कृष्णा राज

चंदौली। केन्द्रीय कृषि राज्यमी मंत्री कृष्णा राज शुक्रवार को जनपद दौरे पर थी। इस दौरान …