Breaking News
Home / धर्म / भदोही: क्रिसमस पर बच्चों की अनूठी पहल से समाज को दिया नया संदेश

भदोही: क्रिसमस पर बच्चों की अनूठी पहल से समाज को दिया नया संदेश

भदोही । जिले में कड़ाके की  ठंड में बीच एक सुकून भरी सकारात्मक खबर आई है।  जब लोगों की सोच ख़ुद के लिए सिमट गई हो, संसद हंगामे की भेंट चढ़ रही हो। समाज और परिवार में निराशा का और असुरक्षा का भाव पनप रहा हो। उस दौरान बचपन अगर बड़ा क़दम उठाए तो इस निराशा के बीच बड़ी उम्मीद जगती है । जी हां ! हम जिले के सुरियावा नगर के स्कूली बच्चों की बात कर रहे हैं जिन्होंने गरीब और बेसहारा बच्चों को कड़ाके की ठंड से निजात दिलाने और उनकी भावनाओ के सम्मान में क्रिसमस पर रविवार को खिलौने, कपड़ा, जूता, पतंग और कॉपी, टाफी ,  किताब बांटा। इसके लिए उन्होंने  नगर के लोगों से हाथ बढ़ाने की अपील की थी। बच्चे कई दिनों से इसे सफल बनाने के लिए लगे थे। लोगों ने उनकी सोच और भावना का सम्मान किया। बच्चों को  नगदी , कपड़े और दूसरे सामान उपलब्ध कराए।  छात्रों ने नगर , रेलवे स्टेशन और आसपास के गाँवों में जाकर गरीब बच्चों में क्रिसमस के अवसर पर सारे सामानों को बांटा। सभी बच्चे भदोही के एक निजी स्कूल में पढ़ते हैं। पत्रकार अनिल वर्मा ने बताया कि दो दिन पूर्व छोटे छोटे बच्चों की टोली हाथ से लिखे एक पत्र लेकर लोगों के पास जाकर सम्पर्क किया। गरीब , बेसहारा बच्चों के लिए ठंड से निजात दिलाने के लिए अपील किया। लोगों ने जब भावना से जुड़ी बच्चों की पाती पढ़ी तो भावुक हो गए और मदद को हाथ बढ़ाया।  बच्चों ने सुरियावां रेलवे स्टेशन पर इकठ्ठा किए गए सामन को गरीब बच्चों में वितरित किया । वहाँ मौजूद जितने लोग थे मासूम बच्चों की बड़ी सोच को लेकर बेहद ख़ुश दिखे। ओम वर्मा , खुशी , आशुतोष , काजल पाण्डेय , रिधिमा गुप्ता , एस पाण्डेय , प्रशांत पाण्डेय , नव्य गुप्ता ने बताया कि हम लोग 15 दिन पूर्व इसकी योजना बनायी थी । बच्चों ने बताया कि गरीब परिवार के बच्चे हम लोगों के घर आते थे तो उन्हें देख कर बड़ी दया आयी। इस लिए हम लोगों ने क्रिसमस के मौके पर यह उपहार देने का फैसला किया जिसमें हम लोगों के घर और बगल के लोगों ने सहयोग किया। हम लोग भदोही के एक निजी स्कूल में कक्षा छह और सातवीं में पढ़ते हैं । भावी पीढ़ी में देश और समाज की अच्छी सोच पर गर्व हो रहा था। बच्चों की इस पहल को रोहित पाण्डेय ने भरपूर सहयोग दिया। लोगों ने कहा कि  इस तरह के विचार यदि नौनिहालों में है तो निसंदेह यह परिवार और स्कूल द्वारा दी जा रही बेहतर शिक्षा और संस्कार को दर्शाता है।

 

 

About admin

Check Also

चन्दौली का पिछड़ा होना अफसरों की नाकामीः कृष्णा राज

चंदौली। केन्द्रीय कृषि राज्यमी मंत्री कृष्णा राज शुक्रवार को जनपद दौरे पर थी। इस दौरान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *