Breaking News
Home / ग़ाज़ीपुर / 2018 में डा. विरेंद्र यादव के सामने यदुवंशियों को लामबंद करके पिछड़ों को साइकिल पर बिठाने की है चुनौती

2018 में डा. विरेंद्र यादव के सामने यदुवंशियों को लामबंद करके पिछड़ों को साइकिल पर बिठाने की है चुनौती

शिवकुमार

गाजीपुर। जिले में समाजवादी पार्टी ने नये निजाम के रुप में उभरे डा. विरेंद्र यादव के सामने 2018 चुनौतियों भरा वर्ष होगा। पिछले वर्षो में एक मध्येवर्ती विधानसभा चुनाव, 2017 आम विधानसभा चुनाव व जिला पंचायत अध्योक्ष चुनाव में समाजवादी पताका फहराकर डा. विरेंद्र यादव ने यह सिद्ध कर दिया कि रामकरन दादा, कैलाश यादव के बाद पिछड़ों के विरासत के असली हकदार वही हैं। सपा के मुखिया ने डा. विरेंद्र यादव का पीठ थपथपाकर यह संदेश दिया कि जिले की समाजवादी कमान विरेंद्र यादव के हाथ में है। सपा के मुखिया अखिलेश यादव की विधायक विरेंद्र यादव से बड़ी अपेक्षायें भी हैं। वह चाहते है कि जिस प्रकार रामकरन दादा मुलायम सिंह के लिए राजनीति में करिश्माय कर जिले में समाजवादी झंडा लहराते थें वह कार्य विरेंद्र यादव हमारे लिए करें। चुनाव के ठीक पहले का साल विरेंद्र यादव के लिए कठिन होमवर्क का है, क्योंाकि अपने स्व़जातीय यदुवंशी भाईयों को लामबंद करके पिछड़ों को भाजपा के खेमे से वापस लाकर साइकिल पर चढ़ाना है। जबतक बिंद, राजभर, कुशवाहा, चौहान आदि पिछड़ी बिरादरियों का मोह भाजपा के भंग नही होगा तबतक सपा के मिशन 2019 बहुत कठिन है। विधायक विरेंद्र यादव ने अपने लक्ष्ये के क्रम में कार्य करना शुरु कर दिया है। बसपा के बड़े बिंद नेता अशोक बिंद को समाजवादी टाट पर बिठाकर अपने मिशन का शुभारंभ कर दिया है। अब उनकी नजर राजभर, कुशवाहा और मुसलमान पर टि‍की है। देखना है कि आने वाले 12 महीनों में वह अपने मिशन में कितना सफल हो पाते है जिससे कि साइकिल संसद तक पहुंच पाये।

About admin

Check Also

जौनपुर: नहर मे डूबे ग्राम प्रधान के हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए प्रदर्शन

जौनपुर/बरसठी। स्थानीय विकास खंड के प्रधानों ने दो दिन पूर्व  सुजानगंज विकास खंड के रामनगर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *