Breaking News
Home / न्यूज़ बुलेटिन / स्वामी विवेकानंद भारतीय ऋषि परंपरा के अग्रदूत

स्वामी विवेकानंद भारतीय ऋषि परंपरा के अग्रदूत

बलिया। अपरिमिता साहित्यिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्थान के नया चौक स्थित नये कार्यालय पर विश्व युवा दिवस की पूर्व संध्या पर स्वामी विवेकानंद जयंती का आयोजन किया गया। डॉ. जनार्दन राय ने विवेकानंद के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला और उन्हें भारतीय ऋषि परंपरा का अग्रदूत बताया। कृष्णकांत पाठक ने स्वामी विवेकानंद को विलक्षण संत बताया।

अशोक गुप्त ने विवेकानंद को विलक्षण संत बताते हुए विश्व धर्म संसद में दिये गये उनके व्याख्यान का स्मरण कराया। डॉ. इफ्तेखार खां एवं शशिप्रेमदेव ने स्वामी विवेकानंद के शिक्षाओं को दैनिक जीवन में अपनाने का आह्वान किया। संस्थान की सचिव एवं सुप्रसिद्ध युवा गायिका सुनीता पाठक ने कहा कि स्वामी जी ने देश में स्त्रियों को और अधिकार देकर उन्हें सशक्त बनाया। इस दौरान अनन्या पाण्डेय नले मोहक गीत प्रस्तुत किया। इसके पूर्व कार्यक्रम का शुभारंभ विवेकानंद के चित्र पर माल्यार्पयण एवं दीप प्रज्जवलन के साथ हुआ। सोनू साहनी ने वाणी वंदना प्रस्तुत किया। शिवजी पाण्डेय रसराज, फतेहचन्द बेचैन, भारती सिंह, डा. अमरनाथ चतुर्वेदी, अभय सिंह कुशवाहा, विजय प्रकाश पाण्डेय, कौशल शुक्ल, आनंद भोजपुरिया, समीर, आयुष कुमार, चंदन भारद्वाज, विरेन्द्र पाल, प्रीति पाण्डेय, नीलम गुप्ता, ज्योति पाण्डेय, नंदनी तिवारी, पुनीता पाठक, अनिता वर्मा, चंदन गुप्त, अतुल पाण्डेय, सोनी सिंह आदि मौजूद रहे। संचालन राजेन्द्र भारती ने किया।

About admin

Check Also

बलिया: स्वामी विवेकानंद के सपनों को पूरा करेंगे पीएम मोदी- स्वतंत्रदेव‍ सिंह

बलिया। भाजयुमो के तत्वावधान में टाउन हाल में आयोजित युवा सम्मेलन में परिवहन मंत्री स्वतंत्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *