Breaking News
46
Home / ब्रेकिंग न्यूज़ / मऊ: बीएसए द्वारा शासन का फरमानों की बार-बार अवहेलना करना पड़ा मंहगा…

मऊ: बीएसए द्वारा शासन का फरमानों की बार-बार अवहेलना करना पड़ा मंहगा…

एच एन आज़मी

मऊ। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जनपद-मऊ घोटाले एवं गैर जिम्मेदाराना रवैया के कारण बीएसए राकेश कुमार का निलंबन हुआ। मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन के पत्र संख्या 1/2018-13(6)/2017का 1-2018  दिनांक 9 जनवरी 2018 का अनुपालन कराते हुए प्रदेश में सबसे पीछे चल रही जनपद मऊ के परिषदीय प्राथमिक शिक्षकों की पदोन्नति कराने व जानबूझकर पदोन्नति को बाधित करने के दोषी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी मऊ  के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के संबंध में विशिष्ट बीटीसी शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष  अंजनी कुमार सिंह ने शासन से मांग करते हुए पत्र लिखा था। श्री सिंह ने बताया कि मऊ जनपद में सिर्फ दिसंबर 2005 तक नियुक्त शिक्षकों की ही पदोन्नति हो पाई है, जबकि अगल-बगल के जनपदों में 2010 के शिक्षकों की पदोन्नति हो चुकी है। वर्तमान में मार्च 2017 में शिक्षकों की सेवानिवृत्ति  के बाद पर्याप्त मात्रा में पद रिक्त चल रहा है। मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन ने अपने पत्र संख्या 1/2018-13(6)/2017 का 1-2018 के दिनांक 9 जनवरी 2018 द्वारा पदोन्नति की प्रक्रिया 31 जनवरी 2018 तक पूर्ण करने* व पदोन्नति में बाधक व शासन के आदेशों की अवहेलना करने वाले अधिकारियों के विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही करने का आदेश किया था। श्री सिंह  अप्रैल 2017 से लगातार दर्जनों पत्रों के माध्यम से जनपद के प्रभारी मंत्री  नंद गोपाल नंदी तथा शासन के प्रमुख अधिकारियों को पदोन्नति संबंधी पत्र लिखकर पदोन्नति की मांग करते आ रहे हैं लेकिन शासन एवं प्रशासन पदोन्नति के प्रकरण पर पूर्णतया संवेदनहीन बना हुआ था। श्री सिंह ने कहा कि जनपद के शिक्षकों की पदोन्नति न है पाना दुर्भाग्यपूर्ण है। पदोन्नति न करके  जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी मऊ जनपद में शैक्षिक माहौल को खराब करने पर आमादा थे। उन्होंने ने फर्जी नियुक्ति और एवं पदोन्नति घोटाला के बारे में शासन और प्रशासन को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की थी। मऊ के प्रभारी मंत्री नन्दगोपाल नन्दी के प्रत्येक मऊ आगमन पर मऊ जिला की बेसिक शिक्षा अधिकारी के कुकृत्यों एवं घोटालों से अवगत कराते रहे। जिसके बाद जॉच की प्रक्रिया तत्काल प्रारम्भ हो गई। इसी कड़ी में जब जॉच शुरू हुई तो उनके  कारनामों की एक एक परत खुलती गई,  और इसी क्रम में फर्जी नियुक्ति का बड़ा खेल पकड़ में आया। तभी जीपीएफ में भी घोटाले का बू आई। जॉच पूरी होते ही प्रतिफल स्वरूप बीएसए मऊ राकेश कुमार का निलंबन कर दिया गया।  इस कार्रवाई से अन्य जनपदों में खलबली मची हुई है।

 

.

 

[rev_slider Purvanchal_wide]

About admin

Check Also

चंदौली: ट्रेन से कटकर अज्ञात महिला की मौत

चंदौली। क्षेत्र के लीलापुर गांव एक अज्ञात महिला ट्रेन की चपेट में आ गयी, जिससे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

56 queries in 0.739 seconds.